noImage

हरीराम व्यास

1510 - 1632 | ओरछा, मध्य प्रदेश

हरिवंश के शिष्य और राधावल्लभ संप्रदाय में दीक्षित। ज्ञान, वैराग्य और भक्ति के साथ ही तत्त्व-निरूपण के लिए स्मरणीय।

हरिवंश के शिष्य और राधावल्लभ संप्रदाय में दीक्षित। ज्ञान, वैराग्य और भक्ति के साथ ही तत्त्व-निरूपण के लिए स्मरणीय।

हरीराम व्यास की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 20

‘व्यास’ कथनी और की, मेरे मन धिक्कार।

रसिकन की गारी भली, यह मेरौ सिंगार॥

  • शेयर

‘व्यास’ बचन मीठे कहै, खरबूजा की भाँति।

ऊपर देखौ एक सौ, भीतर तीन्यों पाँति॥

  • शेयर

मुख मीठी बातें कहै, हिरदै निपट कठोर।

व्यास कहौं क्यों पाय हैं, नागर नंदकिसोर॥

  • शेयर

‘व्यास’ मिठाई विप्र की, तामे लागै आगि।

बृंदाबन ते स्वपच की, जूठहि खैए माँगि॥

  • शेयर

बृंदावन के स्वपच कौ, सेवक होय।

तासों भेद कीजिए, पीजै पद-रज धोय॥

  • शेयर

पद 12

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए