Dhanna Bhagat's Photo'

धन्ना भगत

1415 - 1475 | टोंक, राजस्थान

भक्तिकालीन निर्गुण संत। स्वामी रामानंद के शिष्य। आजीवन खेती-बाड़ी करते हुए भक्ति-पथ पर गतिशील कृषक-कवि।

भक्तिकालीन निर्गुण संत। स्वामी रामानंद के शिष्य। आजीवन खेती-बाड़ी करते हुए भक्ति-पथ पर गतिशील कृषक-कवि।

धन्ना भगत की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 7

धन्नो कहै ते धिग नरां, धन देख्यां गरबाहिं।

धन तरवर का पानड़ा, लागै अर उड़ि जाहिं॥

  • शेयर

धरणीधर व्यापक सबै, धरणि ब्यौम पाताल।

धन्नो कहै धनि साध ते, बिसरै नहिं कहूँ काल॥

  • शेयर

धन्ना धन ते संत जन, जे पैठे पर भीड़।

संधि कटावै आपणी, रती आवै पीड़॥

  • शेयर

धन्ना धिन्न ते मानवी, धरणीधर सूं प्रीति।

राति दिवस बिसरै नहीं, रसना उर मन चीति॥

  • शेयर

धन्ना कहै हरि धरम बिन, पंडित रहे अजाण।

अणबाह्यौ ही नीपजै, बूझौ जाइ किसाण॥

  • शेयर

पद 1

 

सबद 9

"टोंक" से संबंधित अन्य कवि

 

Recitation

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए