noImage

विनायकराव

विनायकराव की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 2

कविगण कविता करहि जो, ज्ञानवान रस लेइ।

जन्म देइ पितु पुत्र को, पुत्रि पतिहि सुख देइ॥

  • शेयर

नहि सरहिये स्वर्ण गिरि, जहँ तरु तरुहि रहाहि।

धन्य मलयगिरि जहँ सकल, तरु चंदन हुई जाहि॥

  • शेयर
 

सवैया 5

 

कवित्त 1

 

कुंडलियाँ 1