Vidyapati's Photo'

विद्यापति

1380 - 1460 | मधुबनी, बिहार

‘मैथिल कोकिल’ के नाम से लोकप्रिय। राधा-कृष्ण की शृंगार-प्रधान लीलाओं के ग्रंथ ‘पदावली’ के लिए स्मरणीय।

‘मैथिल कोकिल’ के नाम से लोकप्रिय। राधा-कृष्ण की शृंगार-प्रधान लीलाओं के ग्रंथ ‘पदावली’ के लिए स्मरणीय।

विद्यापति की संपूर्ण रचनाएँ

वीडियो 5

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
Studio_Videos
जय जय भैरव असुर-भयाउनि | Vidyapati | Hindi Poem | Hindwi

राजीव रंजन झा

जय जय भैरव असुर-भयाउनि | Vidyapati | Hindi Poem | Hindwi

विद्यापति

"बिहार" से संबंधित अन्य कवि

Recitation

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए