Shridhar Pathak's Photo'

श्रीधर पाठक

1860 - 1928 | फ़िरोज़ाबाद, उत्तर प्रदेश

द्विवेदी युग के कवि-अनुवादक। स्वच्छंद काव्य-धारा के प्रवर्तक।

द्विवेदी युग के कवि-अनुवादक। स्वच्छंद काव्य-धारा के प्रवर्तक।

श्रीधर पाठक की संपूर्ण रचनाएँ

कविता 12

दोहा 5

अनियारे आयत बड़े, कजरारे दोउ नैन।

अचक आय जिय में गड़े, काढ़ैं ढीठ कढ़ैं न॥

  • शेयर

चरन-चपल-धरनी-धरनि, फिरनि चारु-दृग-कोर।

सुगढ़ गठनि बैठनि उठनि, त्यों चितवनि चित चोर॥

  • शेयर

रसना को रस ना मिलै, अनत अहो रसखान।

कान सुनैं नहिं आन गुन, नैन लखैं नहिं आन॥

  • शेयर

सहज बंक-भ्रकुटी-फुरनि, बात करन की बेर।

मृदु निशंक बोलनि हँसनि, बसी आय जिय फेर॥

  • शेयर

निहचै या संसार में, दुर्लभ साँचौ नेह।

नेह जहाँ साँचौ तहाँ, कहाँ प्रान कहाँ देह॥

  • शेयर

गीत 2

 

सवैया 4

 

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए