Sarveshwar Dayal Saxena's Photo'

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

1927 - 1983 | बस्ती, उत्तर प्रदेश

आधुनिक हिंदी कविता के प्रमुख कवि और नाटककार। अपनी पत्रकारिता के लिए भी प्रसिद्ध। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

आधुनिक हिंदी कविता के प्रमुख कवि और नाटककार। अपनी पत्रकारिता के लिए भी प्रसिद्ध। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना के वीडियो

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
देश कागज पर बना नक्शा नहीं होता : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : Ravish Kumar in Hindi Studio

देश कागज पर बना नक्शा नहीं होता : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : Ravish Kumar in Hindi Studio

प्रतिरोधी कविताएँ: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

प्रतिरोधी कविताएँ: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की एक कविता ‘तुम्हारे साथ रहकर’ l The Lallantop

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की एक कविता ‘तुम्हारे साथ रहकर’ l The Lallantop

Sarveshwar Dayal Saxena : चाँदनी की पाँच परतें : Surekha Sikri in Hindi Studio with Manish Gupta

Sarveshwar Dayal Saxena : चाँदनी की पाँच परतें : Surekha Sikri in Hindi Studio with Manish Gupta

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : मेरे भीतर की कोयल : Safia Ally in Hindi Studio with Manish Gupta

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : मेरे भीतर की कोयल : Safia Ally in Hindi Studio with Manish Gupta

Hindi Kavita 'Joota' by Sarveshwar Dayal Saxena

Hindi Kavita 'Joota' by Sarveshwar Dayal Saxena

Megh Aaye |मेघ आये|Explanation &Q. Ans| by Alpana Verma

Megh Aaye |मेघ आये|Explanation &Q. Ans| by Alpana Verma

हिंदी कविता भूख ,सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ,अजय रोहिल्ला

हिंदी कविता भूख ,सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ,अजय रोहिल्ला

मेघ आए कविता Megh Aaye सर्वेश्वर दयाल सक्सेना Sarveshwar Dayal Saxena

मेघ आए कविता Megh Aaye सर्वेश्वर दयाल सक्सेना Sarveshwar Dayal Saxena

Sarveshwar Dayal Saxena's poem 'Khali Samay Me' recited by Ketan | The Lallantop

Sarveshwar Dayal Saxena's poem 'Khali Samay Me' recited by Ketan | The Lallantop

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता -- "जूता"

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता -- "जूता"

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता - 'अँधेरे का मुसाफ़िर' / 'Andhere Ka Musafir' By Sarveshwar Dayal Ji

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता - 'अँधेरे का मुसाफ़िर' / 'Andhere Ka Musafir' By Sarveshwar Dayal Ji

Ibne Batuta : Sarveshwar Dayal Saxena : इब्ने बतूता पहन के जूता : Bal Kavita : Rhyme

Ibne Batuta : Sarveshwar Dayal Saxena : इब्ने बतूता पहन के जूता : Bal Kavita : Rhyme

DHOOL | सर्वेश्वर दयाल सक्सेना | a motivational poem

DHOOL | सर्वेश्वर दयाल सक्सेना | a motivational poem

Mukti ki Akanksha || Sarveshwar Dayal Saxena ( मुक्ति की आकांक्षा || सर्वेश्वरदयाल सक्सेना)

Mukti ki Akanksha || Sarveshwar Dayal Saxena ( मुक्ति की आकांक्षा || सर्वेश्वरदयाल सक्सेना)

अन्य वीडियो

  • देश कागज पर बना नक्शा नहीं होता : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : Ravish Kumar in Hindi Studio

    देश कागज पर बना नक्शा नहीं होता : सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : Ravish Kumar in Hindi Studio

  • प्रतिरोधी कविताएँ: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

    प्रतिरोधी कविताएँ: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

  • सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की एक कविता ‘तुम्हारे साथ रहकर’ l The Lallantop

    सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की एक कविता ‘तुम्हारे साथ रहकर’ l The Lallantop

  • Sarveshwar Dayal Saxena : चाँदनी की पाँच परतें : Surekha Sikri in Hindi Studio with Manish Gupta

    Sarveshwar Dayal Saxena : चाँदनी की पाँच परतें : Surekha Sikri in Hindi Studio with Manish Gupta

  • सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : मेरे भीतर की कोयल : Safia Ally in Hindi Studio with Manish Gupta

    सर्वेश्वर दयाल सक्सेना : मेरे भीतर की कोयल : Safia Ally in Hindi Studio with Manish Gupta

  • Hindi Kavita 'Joota' by Sarveshwar Dayal Saxena

    Hindi Kavita 'Joota' by Sarveshwar Dayal Saxena

  • Megh Aaye |मेघ आये|Explanation &Q. Ans| by Alpana Verma

    Megh Aaye |मेघ आये|Explanation &Q. Ans| by Alpana Verma

  • हिंदी कविता भूख ,सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ,अजय रोहिल्ला

    हिंदी कविता भूख ,सर्वेश्वर दयाल सक्सेना ,अजय रोहिल्ला

  • मेघ आए कविता Megh Aaye सर्वेश्वर दयाल सक्सेना Sarveshwar Dayal Saxena

    मेघ आए कविता Megh Aaye सर्वेश्वर दयाल सक्सेना Sarveshwar Dayal Saxena

  • Sarveshwar Dayal Saxena's poem 'Khali Samay Me' recited by Ketan | The Lallantop

    Sarveshwar Dayal Saxena's poem 'Khali Samay Me' recited by Ketan | The Lallantop

  • सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता -- "जूता"

    सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता -- "जूता"

  • सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता - 'अँधेरे का मुसाफ़िर' / 'Andhere Ka Musafir' By Sarveshwar Dayal Ji

    सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता - 'अँधेरे का मुसाफ़िर' / 'Andhere Ka Musafir' By Sarveshwar Dayal Ji

  • Ibne Batuta : Sarveshwar Dayal Saxena : इब्ने बतूता पहन के जूता : Bal Kavita : Rhyme

    Ibne Batuta : Sarveshwar Dayal Saxena : इब्ने बतूता पहन के जूता : Bal Kavita : Rhyme

  • DHOOL | सर्वेश्वर दयाल सक्सेना | a motivational poem

    DHOOL | सर्वेश्वर दयाल सक्सेना | a motivational poem

  • Mukti ki Akanksha || Sarveshwar Dayal Saxena ( मुक्ति की आकांक्षा || सर्वेश्वरदयाल सक्सेना)

    Mukti ki Akanksha || Sarveshwar Dayal Saxena ( मुक्ति की आकांक्षा || सर्वेश्वरदयाल सक्सेना)