noImage

वज्रयानी सिद्ध। हिंदी के प्रथम कवि। सरह, सरहपाद, शरहस्तपाद, सरोजवज्र जैसे नामों से भी चर्चित।

वज्रयानी सिद्ध। हिंदी के प्रथम कवि। सरह, सरहपाद, शरहस्तपाद, सरोजवज्र जैसे नामों से भी चर्चित।

सरहपा की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 1

पाणि चलणि रअ गइ, जीव दरे सग्गु।

वेण्णवि पन्था कहिअ मइ, जहिं जाणसि तहिं लग्गु॥

हाथ, पैर, शरीर ये सब धूल में समा जाते हैं। ये ही जीव की स्थिति है। स्वर्ग नहीं है। सरह कहते हैं—मैंने (स्वर्ग तथा नर्क) दोनों मार्ग बता दिए हैं, जो अच्छा लगे, उस पर चल।

 

पद 7

"बिहार" से संबंधित अन्य कवि

  • अरुण कमल अरुण कमल
  • आलोकधन्वा आलोकधन्वा
  • नागार्जुन नागार्जुन
  • सुधांशु फ़िरदौस सुधांशु फ़िरदौस
  • अनुज लुगुन अनुज लुगुन
  • अनीता वर्मा अनीता वर्मा
  • राजकमल चौधरी राजकमल चौधरी
  • मनोज कुमार झा मनोज कुमार झा
  • मिथिलेश कुमार राय मिथिलेश कुमार राय
  • सत्येंद्र कुमार सत्येंद्र कुमार