अवतार पर दोहे

हिरन्याच्छ भ्राता सहित, मधु कैटभ बलवान।

जेहिं मारे सोइ अवतरेउ, कृपासिंधु भगवान॥

जिन कृपासिंधु भगवान ने भाई हिरण्यकशिपु सहित हिरण्याक्ष को और बलवान् मधु-कैटभ को मारा था, वे ही भगवान् (श्रीराम रूप में) अवतरित हुए।

तुलसीदास
  • संबंधित विषय : राम

संबंधित विषय