noImage

लल्लू लाल जी

1763 - 1835 | आगरा, उत्तर प्रदेश

आरंभिक दौर के चार प्रमुख गद्यकारों में से एक। खड़ी बोली गद्य की आरंभिक कृतियों में से एक ‘प्रेमसागर’ के लिए उल्लेखनीय।

आरंभिक दौर के चार प्रमुख गद्यकारों में से एक। खड़ी बोली गद्य की आरंभिक कृतियों में से एक ‘प्रेमसागर’ के लिए उल्लेखनीय।

लल्लू लाल जी की संपूर्ण रचनाएँ

"आगरा" से संबंधित अन्य कवि

  • रहीम रहीम
  • रामविलास शर्मा रामविलास शर्मा
  • तानसेन तानसेन
  • संत शिवदयाल सिंह संत शिवदयाल सिंह
  • मलखान सिंह मलखान सिंह