noImage

धरनीदास

1656 | छपरा, बिहार

भक्तिकाल के संत कवि। आत्महीनता, नाम स्मरण, विनय और आध्यात्मिक विषयों पर कविताई की। 'निज' की पहचान पर विशेष बल दिया।

भक्तिकाल के संत कवि। आत्महीनता, नाम स्मरण, विनय और आध्यात्मिक विषयों पर कविताई की। 'निज' की पहचान पर विशेष बल दिया।

धरनीदास की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 1

जाहि परो दुख आपनो, सो जानै पर पीर।

धरनी कहत सुन्यो नहीं, बाँझ की छाती छीर॥

  • शेयर
 

पद 2

 

सबद 2

 

"बिहार" से संबंधित अन्य कवि

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए