noImage

रीतिबद्ध के आचार्य कवि। काव्यांग-निरूपण में सिरमौर। शृंगार-निरूपण के अतिरिक्त नीति-निरूपण के लिए भी उल्लेखनीय।

रीतिबद्ध के आचार्य कवि। काव्यांग-निरूपण में सिरमौर। शृंगार-निरूपण के अतिरिक्त नीति-निरूपण के लिए भी उल्लेखनीय।

भिखारीदास की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 2

तजि आसा तन, प्रान की, दीपै मिलत पतंग।

दरसाबत सब नरन कों, परम प्रेंम कौ ढंग॥

  • शेयर

जीबन-लाभ हमें, लखै स्याम-तिहारी काँति।

बिनाँ स्याम-घन-छन प्रभा, प्रभा लहै किहि भाँति॥

  • शेयर
 

सवैया 8

कवित्त 5

 

"उत्तर प्रदेश" से संबंधित अन्य कवि

  • ईसुरी ईसुरी
  • पंकज चतुर्वेदी पंकज चतुर्वेदी
  • जयशंकर प्रसाद जयशंकर प्रसाद
  • केशव तिवारी केशव तिवारी
  • अविनाश मिश्र अविनाश मिश्र
  • सदानंद शाही सदानंद शाही
  • रामसहाय दास रामसहाय दास
  • निर्मला गर्ग निर्मला गर्ग
  • नरेश सक्सेना नरेश सक्सेना
  • अरुण देव अरुण देव