Amir Khusrow's Photo'

अमीर ख़ुसरो

1253 - 1325 | पटियाली, उत्तर प्रदेश

सूफ़ी संत, संगीतकार, इतिहासकार और भाषाविद। हज़रत निज़ामुद्दीन के शिष्य और खड़ी बोली हिंदी के पहले कवि। ‘हिंदवी’ शब्द के पुरस्कर्ता।

सूफ़ी संत, संगीतकार, इतिहासकार और भाषाविद। हज़रत निज़ामुद्दीन के शिष्य और खड़ी बोली हिंदी के पहले कवि। ‘हिंदवी’ शब्द के पुरस्कर्ता।

दोहा 2

ख़ुसरो रैन सुहाग की, जागी पी के संग।

तन मेरो मन पीउ को, दोउ भए एक रंग॥

ख़ुसरो कहते हैं कि उसके सौभाग्य की रात्रि बहुत अच्छी तरह से बीत गई, उसमें परमात्मा प्रियतम के साथ जीवात्मा की पूर्ण आनंद की स्थिति रही। वह आनंद की अद्वैतमयी स्थिति ऐसी थी कि तन तो जीवात्मा का था और मन प्रियतम का था, परंतु सौभाग्य की रात्रि में दोनों मिलकर एक हो गए, अर्थात दोनों में कोई भेद नहीं रहा और द्वैत की स्थिति नहीं रही।

गोरी सोवै सेज पर, मुख पर डारे केस।

चल ख़ुसरो घर आपने, रैन भई चहुँ देस॥

ख़ुसरो कहते हैं कि आत्मा रूपी गोरी सेज पर सो रही है, उसने अपने मुख पर केश डाल लिए हैं, अर्थात वह दिखाई नहीं दे रही है। तब ख़ुसरो ने मन में निश्चय किया कि अब चारों ओर अँधेरा हो गया है, रात्रि की व्याप्ति दिखाई दे रही है। अतः उसे भी अपने घर अर्थात परमात्मा के घर चलना चाहिए।

 

गीत 3

 

पहेलियाँ 5

 

वीडियो 6

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Amir Khusrow : Chhap Tilak Sab Cheen Leeni : Azam Ali Mukkaram in Urdu Studio with Manish Gupta

Best of Sufi Saints - Amir Khusrow | Sufi Hits Songs | Audio Jukebox

Zehaal-e-Miskeen Makun Taghaful | Amir Khusrau | Nusrat Fateh Ali Khan

Aaj Rang Hai Ri Maa - Rais Miyan | Ameer Khusro | Nizamuddin Auliya | Haqiqat حقیقت |

अमीर खुसरो : छाप तिलक सब छीन लीनी : Dhruv Sangari / Vartika Tiwari in Hindi Studio w Manish Gup

छाप तिलक सब छीनी रे | क़व्वाल निज़ामी बंधु | Chhap Tilak | Ameer Khusro | Qawwal Nizami Bandhu

"उत्तर प्रदेश" से संबंधित अन्य कवि

  • ईसुरी ईसुरी
  • पंकज चतुर्वेदी पंकज चतुर्वेदी
  • केशव तिवारी केशव तिवारी
  • केदारनाथ अग्रवाल केदारनाथ अग्रवाल
  • सदानंद शाही सदानंद शाही
  • रामसहाय दास रामसहाय दास
  • निर्मला गर्ग निर्मला गर्ग
  • नरेश सक्सेना नरेश सक्सेना
  • अरुण देव अरुण देव
  • हरीशचंद्र पांडे हरीशचंद्र पांडे