शहर पर 10 प्रसिद्ध कविताएँ

90
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

शहर

अंजुम शर्मा

ज़रूर जाऊँगा कलकत्ता

जितेंद्र श्रीवास्तव

अजनबी शहर में

संजय कुंदन

उसी शहर में

ध्रुव शुक्ल

महानगर : रात

अज्ञेय

मेरी दिल्ली

इब्बार रब्बी

एक शहर था

जितेंद्र कुमार

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए