Surykant Tripathi Nirala's Photo'

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

1896 - 1961 | मिदनापुर, पश्चिम बंगाल

छायावादी दौर के चार स्तंभों में से एक। समादृत कवि-कथाकार। महाप्राण नाम से विख्यात।

छायावादी दौर के चार स्तंभों में से एक। समादृत कवि-कथाकार। महाप्राण नाम से विख्यात।

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की ई-पुस्तक

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की पुस्तकें

8

गीतिका

प्रबंध पद्म

अप्सरा

प्रभावती

1945

सुकुल की बीबी

1941

दुर्गेशनंदिनी

देवी

प्रबंध पद्म

1934

Recitation

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए