noImage

मलूकदास

1574 - 1682 | इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश

सगुण भक्ति परंपरा के संत कवि। ‘अजगर करे ना चाकरी...’ जैसी उक्ति के लिए स्मरणीय।

सगुण भक्ति परंपरा के संत कवि। ‘अजगर करे ना चाकरी...’ जैसी उक्ति के लिए स्मरणीय।

दोहा 41

उहां कबहूँ जाइए, जहाँ हरि का नाम।

दिगंबर के गाँव में, धोबी का क्या काम॥

  • शेयर

किरतिम देव पूजिए, ठेस लगे फुटि जाय।

कहैं मलूक सुभ आत्मा, चारों जुग ठहराय॥

  • शेयर

राम-राम के नाम को, जहाँ नहीं लवलेस।

पानी तहाँ पीजिए, परिहरिए सो देस॥

  • शेयर

दया धर्म हिरदे बसै, बोलै अमृत बैन।

तेई ऊँचे जानिए, जिन के नीचे नैन॥

  • शेयर

हम जानत तीरथ बड़े, तीरथ हरि की आस।

जिनके हिरदे हरि बसै, कोटि तिरथ तिन पास॥

  • शेयर

पद 18

सबद 13

"इलाहाबाद" से संबंधित अन्य कवि

  • हरीशचंद्र पांडे हरीशचंद्र पांडे
  • संतोष कुमार चतुर्वेदी संतोष कुमार चतुर्वेदी
  • महादेवी वर्मा महादेवी वर्मा
  • सूर्यकांत त्रिपाठी निराला सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
  • बसंत त्रिपाठी बसंत त्रिपाठी
  • हरिवंशराय बच्चन हरिवंशराय बच्चन
  • सुमित्रानंदन पंत सुमित्रानंदन पंत
  • विजय देव नारायण साही विजय देव नारायण साही
  • धर्मवीर भारती धर्मवीर भारती
  • भुवनेश्वर भुवनेश्वर