Kedarnath Singh's Photo'

केदारनाथ सिंह

1934 - 2018 | बलिया, उत्तर प्रदेश

समादृत कवि-लेखक। भारतीय ज्ञानपीठ से सम्मानित।

समादृत कवि-लेखक। भारतीय ज्ञानपीठ से सम्मानित।

केदारनाथ सिंह की संपूर्ण रचनाएँ

कविता 25

उद्धरण 65

मुझे कई बार लगता है कि पेड़ शायद आदमी का पहला घर है।

  • शेयर

कवि को लिखने के लिए कोरी स्लेट कभी नहीं मिलती है। जो स्लेट उसे मिलती है, उस पर पहले से बहुत कुछ लिखा होता है। वह सिर्फ़ बीच की ख़ाली जगह को भरता है। इस भरने की प्रक्रिया में ही रचना की संभावना छिपी हुई है।

  • शेयर

कविता क्रांति ले आएगी, ऐसी ख़ुशफ़हमी मैंने कभी नहीं पाली, क्योंकि क्रांति एक संगठित प्रयास का परिणाम होती है, जो कविता के दायरे के बाहर की चीज़ है।

  • शेयर

अज्ञेय से पहले हिंदी का कोई ऐसा कवि नहीं हुआ जो शुद्ध रूप से नागरिक कवि हो।

  • शेयर

मैं ऐसा नहीं मानता कि विश्व-बाज़ार कविता को निगल जाएगा और कविता हमेशा के लिए अपना प्रभाव खो देगी।

  • शेयर

वीडियो 11

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
केदारनाथ सिंह

लाइव डिस्कशन ऑन "कविता शिक्षण - बनारस कविता के संदर्भ में"

लाइव डिस्कशन ऑन "कविता शिक्षण - बनारस कविता के संदर्भ में"

#SubahWithShayari Ep. 13 | शब्द | केदारनाथ सिंह

एक कविता रोज़ में सुनिए केदारनाथ सिंह की कविता तुम आईं | केदारनाथ सिंह

एक कविता रोज़ में सुनिए केदारनाथ सिंह की कविता तुम आईं | केदारनाथ सिंह

केदारनाथ सिंह

केदारनाथ सिंह : धूप में घोड़े पर बहस : मनीष गुप्ता के साथ हिंदी स्टूडियो में रजत कपूर

केदारनाथ सिंह

रविश कुमार प्राईम टाइम 20 मार्च 18 | कवि केदारनाथ सिंह | कवि केदारनाथ सिंह

रविश कुमार प्राईम टाइम 20 मार्च 18 | कवि केदारनाथ सिंह | कवि केदारनाथ सिंह

केदारनाथ सिंह

बनारस : केदारनाथ सिंह

बनारस : केदारनाथ सिंह

केदारनाथ सिंह

केदारनाथ सिंह की कविता 'रोटी'

केदारनाथ सिंह की कविता 'रोटी'

केदारनाथ सिंह

पानी में घिरे हुए लोग : केदारनाथ सिंह | फन2श डेरी । हिंदी कविता ।

पानी में घिरे हुए लोग : केदारनाथ सिंह | फन2श डेरी । हिंदी कविता ।

केदारनाथ सिंह

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए