कविताएँ

हिंदी की काव्य-परंपरा से विभिन्न काव्य-विधाओं की रचनाओं का विशाल-संग्रह

नई पीढ़ी की कवयित्री। स्त्रीवादी विचारों के लिए उल्लेखनीय।

नई पीढ़ी की कवयित्री। संगीत में रुचि।

नई पीढ़ी से संबद्ध कवि-लेखक।

1990

नई पीढ़ी के कवि। गद्य-लेखन में भी सक्रिय।

1990

समादृत कवि-कथाकार-अनुवादक और संपादक। भारतीय ज्ञानपीठ से सम्मानित।

1911 -1987

सुपरिचित कवयित्री। कविताओं में उपस्थित संगीतात्मक वैभव के लिए उल्लेखनीय।

1958

नई पीढ़ी के कवि। पत्रकारिता से भी संबद्ध।

1989

पर्वतीय-संवेदना और सरोकारों को अभिव्यक्ति देने वाले हिंदी के सुपरिचित कवि।

1965

सुपरिचित कवि और पत्रकार। जन संस्कृति मंच से संबद्ध।

1946

हिंदी के प्रसिद्ध कवि-लेखक और संपादक। हरिवंश राय बच्चन से निकटता के लिए भी चर्चित

1933 -2017

भारत के दसवें प्रधानमंत्री और हिंदी के लोकप्रिय कवि। भारत रत्न से सम्मानित।

1926 -2018

हिंदी कविता के आठवें दशक में उभरे सुपरिचित कवि-आलोचक।

1946

नई पीढ़ी के कवि। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

1994

सुपरिचित कवि। आदिवासी संवेदना-सरोकारों के लिए उल्लेखनीय। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार और साहित्य अकादेमी के युवा पुरस्कार से सम्मानित।

1986

‘जगत में मेला’ शीर्षक कविता-संग्रह के कवि। बतौर अनुवादक भी उल्लेखनीय।

1958

नई पीढ़ी के कवि। पत्रकारिता से भी जुड़ाव।

1989

नई पीढ़ी की कवयित्री और अनुवादक। स्त्रीवादी विचारों के लिए उल्लेखनीय।

इस सदी में सामने आईं कवयित्री। स्त्रीवादी विचारों के लिए उल्लेखनीय।

1971

अज्ञातकुलशील कवि। प्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार दूधनाथ सिंह की खोज।

हिंदी की सुपरिचित कवयित्री और कथाकार। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

1961

नवें दशक के कवि। कहानी, डायरी और निबंध-लेखन में भी सक्रिय।

1964

नवें दशक के कवि। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित। जनवादी लेखक संघ से जुड़ाव।

1968

नवें दशक में सामने आए हिंदी कवि। बतौर अनुवादक भी चर्चित।

1957

नवें दशक की कवयित्री। भाषिक सादगी और विषय-चयन के लिए उल्लेखनीय।

1959

समादृत कथाकार। समय-समय पर काव्य-लेखन भी।

1949

नई पीढ़ी के कवि-लेखक और अनुवादक।

1997

नई पीढ़ी के चर्चित कवि-लेखक।

1984

नई पीढ़ी के कवि। व्यंग्य और अनुवाद के संसार में भी सक्रिय।

1994

सुपरिचित कवि-लेखक।

1956

नई पीढ़ी के कवि। काव्य-शिल्प के उल्लेखनीय।

1985

कवि और गद्यकार। खड़ी बोली हिंदी के प्रथम महाकाव्य 'प्रिय प्रवास' के रचनाकार।

1865 -1947

आठवें दशक के प्रमुख कवि-लेखक और संपादक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

1954

हिंदी के सुपरिचित कवि। ई-पत्रिका ‘समालोचन’ के संपादन के लिए सम्मानित।

1972

नई पीढ़ी के हिंदी-मैथिली कवि-लेखक। भारतीय ज्ञानपीठ के नवलेखन पुरस्कार से सम्मानित।

1985

अज्ञेय द्वारा संपादित ‘चौथा सप्तक’ के कवि। चित्रकला में भी सक्रिय रहे।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक और संपादक। तीन पुस्तकें प्रकाशित।

1986

हिंदी कवि-कथाकार और अनुवादक। ‘कश्मीरनामा’ शीर्षक पुस्तक के लिए चर्चित।

1975

दलित-संवेदना और सरोकारों के लिए उल्लेखनीय कवि-कार्यकर्ता।

समादृत कवि-आलोचक और संस्कृतिकर्मी। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

1941

नवें दशक के महत्त्वपूर्ण कवि। अपने काव्य-वैविध्य और लोक-संवेदना के लिए उल्लेखनीय।

1954

सुपरिचित कवि-लेखक। दलित-संवेदना और सरोकारों के लिए उल्लेखनीय।

1962

सुपरिचित कवि-लेखक और अनुवादक। ‘बहनें’ शीर्षक कविता के लिए चर्चित।

1954

अभिनय के संसार से संबद्ध हिंदी कवयित्री और गद्य-लेखिका।

1970