मस्जिद पर ग़ज़लें

नमाज़ पढ़ने की जगह या

मसीत को मस्जिद कहा जाता है। मंदिरों की तरह ही मस्जिदें भी भारतीय सांस्कृतिक जीवन की अभिन्न अंग हैं।

मंदिर से मस्जिदों से

रामकुमार कृषक

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए