Raskhan's Photo'

रसखान

1548 - 1628 | हरदोई, उत्तर प्रदेश

कृष्ण-भक्त कवि। भावों की सरस अभिव्यक्ति के लिए ‘रस की खान’ कहे गए। सवैयों के लिए स्मरणीय।

कृष्ण-भक्त कवि। भावों की सरस अभिव्यक्ति के लिए ‘रस की खान’ कहे गए। सवैयों के लिए स्मरणीय।

रसखान की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 8

प्रेम हरी को रूप है, त्यौं हरि प्रेम स्वरूप।

एक होइ द्वै यो लसै, ज्यौं सूरज अरु धूप॥

  • शेयर

अति सूक्षम कोमल अतिहि, अति पतरो अति दूर।

प्रेम कठिन सब ते सदा, नित इकरस भरपूर॥

  • शेयर

इक अगी बिनु कारनहिं, इक रस सदा समान।

गनै प्रियहि सर्वस्व जो, सोई प्रेम प्रमान॥

  • शेयर

पै मिठास या मार के, रोम-रोम भरपूर।

मरत जियै झुकतौ थिरै, बनै सु चकनाचूर॥

  • शेयर

प्रेम प्रेम सब कोए कहै, कठिन प्रेम की फाँस।

प्रान तरफि निकरै नहीं, केवल चलत उसाँस॥

  • शेयर

पद 1

 

सवैया 18

"उत्तर प्रदेश" से संबंधित अन्य कवि

  • ईसुरी ईसुरी
  • पंकज चतुर्वेदी पंकज चतुर्वेदी
  • जयशंकर प्रसाद जयशंकर प्रसाद
  • केशव तिवारी केशव तिवारी
  • अविनाश मिश्र अविनाश मिश्र
  • सदानंद शाही सदानंद शाही
  • रामसहाय दास रामसहाय दास
  • निर्मला गर्ग निर्मला गर्ग
  • नरेश सक्सेना नरेश सक्सेना
  • अरुण देव अरुण देव