noImage

रामसहाय दास

बनारस, उत्तर प्रदेश

'राम सतसई' के रचयिता। शृंगार की सरस उद्भावना और वाक् चातुर्य के कवि।

'राम सतसई' के रचयिता। शृंगार की सरस उद्भावना और वाक् चातुर्य के कवि।

दोहा 40

सरकी सारी सीस तें, सुनतहिं आगम नाह।

तरकी वलया कंचुकी, दरकी फरकी वाह॥

  • शेयर
  • संबंधित विषय : सुख

ऐसे बड़े बिहार सों, भागनि बचि-बचि जाय।

सोभा ही के भार सों, बलि कटि लचि-लचि जाय॥

  • शेयर

झलकनि अधरनि अरुन मैं, दसननि की यौं होति।

हरि सुरंग घन बीच ज्यौं, दमकति दामिनि जोति॥

  • शेयर

जदपि जतन करि मन धरों, तदपि कन ठहराय।

मिलत निसानन भान को, घन समान उड़ि जाय॥

  • शेयर

लाल चलत लखि वाल के, भरि आए दृग लोल।

आनन तें बात कढ़ी, पीरी चढ़ी कपोल॥

  • शेयर

"बनारस" से संबंधित अन्य कवि

  • सदानंद शाही सदानंद शाही
  • सुधाकर द्विवेदी सुधाकर द्विवेदी
  • धूमिल धूमिल
  • बलवीर बलवीर
  • गिरिधारन गिरिधारन
  • सेवक सेवक
  • सरदार कवि सरदार कवि
  • गोकुलनाथ गोकुलनाथ
  • दीनदयाल गिरि दीनदयाल गिरि
  • हजारी प्रसाद द्विवेदी हजारी प्रसाद द्विवेदी