केरला के रचनाकार

कुल: 17

मलयालम भाषा के समादृत कवि, समालोचक और साहित्य-सिद्धांतकार। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

मलयालम की समादृत कवयित्री-लेखिका-अनुवादक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत मलयाली कवि, निबंधकार और समालोचक। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित पहले साहित्यकार।

मलयालम के समादृत कवि, संपादक और अनुवादक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

‘महाकवि’ के रूप में सुप्रतिष्ठित मलयाली कवि।

मलयालम भाषा के आधुनिक कवित्रयं में से एक। महाकवि के रूप में समादृत।

मलयालम के समादृत कवि और गीतकार। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित।

सुपरिचित कवयित्री। अनुवादक और शोध-कार्य में भी सक्रिय।

समादृत मलयाली संत-कवि, दार्शनिक और समाज-सुधारक। सामाजिक-राजनीतिक आंदोलनों में योगदान।

मलयालम की सुप्रतिष्ठित कवयित्री और सामाजिक कार्यकर्ता। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

मलयालम के समादृत कवि और अनुवादक। ‘कथकली’ के पुनरुद्धार में योगदान के लिए भी उल्लेखनीय।

सुपरिचित कन्नड़ उपन्यासकार-कथाकार-कवि।

सुपरिचित मलयाली कवि। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

मलयालम भूपाल मंगलम्, मणि मेखला, संस्कृत कोवलम्, कन्नकि आदि संस्कृत कृतियों के रचनाकार।

सुपरिचित मलयाली कवि-गीतकार। मलयाली फ़िल्मों के गीतकार के रूप में उल्लेखनीय।

सुप्रसिद्ध मलयाली कवि। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए