हिजड़े पर कविताएँ

भारतीय समाज में हिजड़ों

की स्थिति हमेशा हाशिए की रही है। उनके अपने अंधकार और व्यथाएँ हैं। हिंदी कविता ने इस स्थिति को समय-समय पर दर्ज करने की कोशिश की है। प्रस्तुत चयन ऐसी ही कविताओं का है।

हिजड़े

हरीशचंद्र पांडे

हिजड़े

निलय उपाध्याय

हिजड़े

कृष्णमोहन झा

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए