मुंबई के रचनाकार

कुल: 69

‘मधुशाला’ के लिए मशहूर समादृत कवि-लेखक और अनुवादक। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

ब्रिटिश लेखक। नोबेल पुरस्कार से सम्मानित।

प्रगतिशील शायर और गीतकार। प्रतिष्ठित पुरस्कार 'पद्मश्री' से सम्मानित।

सुप्रसिद्ध गीतकार। विद्रोही और प्रगतिशील विचारों के लिए उल्लेखनीय।

अत्यंत लोकप्रिय गीतकार और फ़िल्मकार। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत कवि-कथाकार और पटकथा-लेखक। ‘आधा गाँव’ और ‘टोपी शुक्ला’ सरीखे उपन्यासों के लिए स्मरणीय।

प्रगतिशील कथाकार। कहानी, उपन्यास, नाटक, आलोचना, अनुवाद आदि गद्य विधाओं के साथ-साथ पद्य लेखन में भी प्रवीण। 'मुर्दों का टीला' ख्याति का मूल आधार।

‘तू ज़िंदा है तो ज़िंदगी की जीत में यक़ीन कर...’ के रचयिता और लोकप्रिय गीतकार। सिनेमा और प्रगतिशील आंदोलन से संबद्ध।

मराठी नाटककार, निबंधकार और पटकथा लेखक। राजनैतिक-सामाजिक कार्यकर्ता। 'पद्मभूषण' और 'संगीत नाटक अकादमी' पुरस्कारों से सम्मानित। 'घासीराम कोतवाल' नाटक प्रसिद्धि का आधार।

नई पीढ़ी के श्रेष्ठ कवि-कथाकार। सिनेमा के संसार से भी संबद्ध।

हिंदी के चर्चित कवि-कथाकार और अनुवादक। 'आलाप में गिरह'. 'न्यूनतम मैं', 'ख़ुशियों के गुप्तचर' शीर्षक से तीन कविता-संग्रह प्रकाशित। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

सुप्रसिद्ध हास्य कवि।

सुपरिचित अभिनेता और रंगकर्मी। समय-समय पर गद्य और कविता-लेखन।

सुविख्यात कवि-गीतकार और संपादक। सिनेमा के लिए लिखे गए गीतों के लिए भी चर्चित।

हिंदी सिनेमा से संबद्ध लोकप्रिय गीतकार-कवि और पटकथा लेखक।

हिंदी सिनेमा के लोकप्रिय कवि-गीतकार। पटकथा और विज्ञापन-लेखन के लिए भी मशहूर।

सुप्रसिद्ध हास्य कवि।

लोकप्रिय हिंदी कवि-गीतकार, नाटककार और अभिनेता।

सुपरिचित गुजराती कवि-लेखक।

नई पीढ़ी के कवि। व्यंग्य और अनुवाद के संसार में भी सक्रिय।

इस सदी में सामने आईं कवयित्री। स्त्रीवादी विचारों के लिए उल्लेखनीय।

सुपरिचित कवि-लेखक। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

कविता-पटकथा और समीक्षा की विधा में सक्रिय।

सुपरिचित कवयित्री और कथाकार।

आठवें दशक के कवि-लेखक और संपादक। संस्मरण-लेखन और अनुवाद-कार्य के लिए भी उल्लेखनीय।

नवें दशक के कवि। उपन्यास और नाट्य-लेखन में भी सक्रिय।

नई पीढ़ी के कवि। कला और सिनेमा के संसार से संबद्ध।

सुचर्चित गीतकार।

सुपरिचित कवि-आलोचक और अनुवादक। 'अदृश्य हो जाएँगी सूखी पत्तियाँ', 'चाहे जिस शक्ल से' और 'रात-पाली' शीर्षक से तीन कविता-संग्रह प्रकाशित।

इस सदी में सामने आईं हिंदी कवयित्री।

नवें दशक के कवि। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित। जनवादी लेखक संघ से जुड़ाव।

‘जगत में मेला’ शीर्षक कविता-संग्रह के कवि। बतौर अनुवादक भी उल्लेखनीय।

अभिनय के संसार से संबद्ध हिंदी कवयित्री और गद्य-लेखिका।

चंबल के बीहड़ों का पड़ोस रखने वाले कवि-पत्रकार। जनवादी विचारों के लिए उल्लेखनीय।

मराठी के सुप्रसिद्ध कवि। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

छठे दशक के प्रमुख मराठी कवि और कादंबरीकार। अपनी काव्यभाषा के लिए चर्चित।

गुजराती भाषा के सुपरिचित कवि, समालोचक और साहित्यिक इतिहासकार। गुजराती साहित्य के इतिहास लेखन के लिए उल्लेखनीय।

प्रसिद्ध मराठी कवि, लेखक और अधिकार कार्यकर्ता। ‘दलित पैंथर’ की स्थापना के लिए उल्लेखनीय।

‘कामगार कवि’ के रूप में लोकप्रिय वरिष्ठ मराठी कवि।

हिंदी-उर्दू के समादृत कवि-गद्यकार। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत डोगरी कवयित्री और उपन्यासकार। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत कथाकार। 'समयांतर' पत्रिका के संपादक।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक।

नई पीढ़ी की कवयित्री। उपन्यास-लेखन में भी सक्रिय।

समादृत लेखक और व्यंग्यकार।

सुपरिचित कवयित्री और कथाकार। अनुवाद-कार्य और संपादन में भी सक्रिय।

सुपरिचित कवि-लेखक और संपादक। भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित।

नई पीढ़ी के कवि-लेखक। कथा और सिने-लेखन से भी संबद्ध।

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए