कवित्त संग्रह

वर्णिक छंद। चार चरण।

प्रत्येक चरण में सोलह, पंद्रह के विराम से इकतीस वर्ण। चरणांत में गुरू (ऽ) अनिवार्य। वर्णों की क्रमशः आठ, आठ, आठ और सात की संख्या पर यति (ठहराव) अनिवार्य।

40
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सेवक सिपाही हम उन रजपूतन के

ठाकुर बुंदेलखंडी
बोलिए