बेला

साहित्य और संस्कृति की घड़ी

विषधारी मत डोल कि मेरा आसन बहुत कड़ा है

 

बचपन में पिता की टेबल पर जिन किताबों से मेरा साबका पड़ता था, उनमें शेक्‍सपियर के कंपलीट वर्क्‍स के साथ मुक्तिबोध की ‘भूरी-भूरी खाक धूल’, नामवर सिंह की ‘दूसरी परंपरा की खोज’ के अलावा रामधारी सिंह दिनकर

...और पढ़िए

28 मई 2024

आज का उद्धरण

कवि कह गया है

अधिकतर अज्ञानता के सुख-दुःख की आदत थी। ज्ञान के सुख-दुःख बहुतों को नहीं मालूम थे। जबकि ज्ञान असीम अटूट था। ज्ञान सुख की समझ देता था पर सुख नहीं देता था।

हिन्दी भाषा और साहित्य के संरक्षण-संवर्द्धन में हमारा सहयोग करें।

ई-पुस्तकें

हिंदी का किताबघर

हिंदी के नए बालगीत

रमेश तैलंग 

1994

गीतों में विज्ञान

सोम्या 

1993

दोहा-कोश

राहुल सांकृत्यायन 

1957

आकाश-गंगा

मदनमोहन राजेन्द्र 

1972

बाँकीदास-ग्रंथावली

रामनारायण दूगड़ 

1931

थाली भर आशा

इशरत आफ़रीं 

2015

अन्य ई-पुस्तकें

रेख़्ता फ़ाउंडेशन की अन्य वेबसाइट्स

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए